उपयुक्त सुयोग तथा अवसर उपस्थित होने पर मनुष्य में जो ईश्वरत्व विद्यमान् है वह अपने को अभिव्यक्त कर देता है । - स्वामी विवेकानंद

Member Login

working..