जब तक मनुष्य का चरित्र-परिवर्तन नहीं होता, तब तक दुः ख-क्लेश बना ही रहेगा । - स्वामी विवेकानंद

Member Login

working..