जिस अवस्था में मनुष्य अभी है, उसे वहीं से आगे बढ़ाने में सहायता देनी चाहिए । - स्वामी विवेकानंद