हमें अपनी जाति के आध्यात्मिक और लौकिक शिक्षा का भार ग्रहण करना होगा । - स्वामी विवेकानंद