वेदान्त के बिना सब धर्म अन्धविश्वास है; इसके साथ मिलकर प्रत्येक वस्तु धर्म बन जाती है । - स्वामी विवेकानंद