वीर बनो, श्रद्धा-सम्पन्न बनो, और सब कुछ तो इसके बाद आ ही जायगा । - स्वामी विवेकानंद