मनुष्य चाहे जितने प्रकार के सत्य की उपलब्धि करे, उसका प्रत्येक सत्य भगवान् के दर्शन के सिवाय और कुछ नहीं है । - स्वामी विवेकानंद