करूणाजन्य परोपकार उत्तम है, परन्तु शिवभाव से सर्वजीव की सेवा सर्वश्रेष्ठ है । - स्वामी विवेकानंद