ये मनुष्य और पशु, जिन्हें हम आस-पास और आगे-पीछे देख रहें हैं, ये ही हमारे ईश्वर हैं । - स्वामी विवेकानंद