दूसरे की यदि सहायता चाहते हो, तो तुम्हें अपने अहंभाव को छोड़ना होगा । - स्वामी विवेकानंद