श्रद्धा ही एक मनुष्य को बड़ा तथा दूसरे को कमजोर और छोटा बनाती है । - स्वामी विवेकानंद